कक्षा 12वी के महत्वपूर्ण समाचार-लेखन | Important Class 12th Hindi Newspaper Writing In Hindi

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

कक्षा 12वी के महत्वपूर्ण समाचार-लेखन | Important Class 12th Hindi Newspaper Writing


समाचार-लेखन


समाचार का अर्थ– ‘समाचार’ शब्द सम् + आचार से बना है। ‘सम’ का अर्थ है- सम्यक अर्थात् समुचित, ठीक या निर्दोष। ‘आचार’ का तात्पर्य — व्यवहार। इस प्रकार मानव के आचरण का ठीक-ठीक विवरण ‘समाचार’ कहलाता।

आज ‘समाचार’ शब्द मानव के आचरण तक ही सीमित नहीं है, बल्कि जिन-जिन विषयों में मानव की रुचि हो सकती है, उन सबके बारे में कोई नयी सूचना, घटना या जानकारी भी समाचार कहलाती है। अंग्रेजी में समाचार के लिए News शब्द का प्रयोग होता है। News का अर्थ है North (उत्तर), East (पूर्व), West (पश्चिम) तथा ‘South (दक्षिण) से प्राप्त सभी सूचनाएँ। आशय यह है कि सब दिशाओं में घटित होनेवाली ऐसी सूचनाएँ जिनका मानव-जीवन से संबंध है, समाचार कहलाती हैं।

कक्षा 12वी के महत्वपूर्ण समाचार-लेखन | Important Class 12th Hindi Newspaper Writing

समाचार लेखन का अर्थ– समाचार लेखन एक विशिष्ट कला है। समाचार तथ्यों पर आधारित होते हैं, परंतु साहित्य में घटनाएँ तथ्यों पर आधारित नहीं होती हैं। इतिहास में पुराने तथ्य होते हैं, जबकि पत्रकारिता के तथ्य सामयिक होते हैं। समाचार को तथ्यों के साथ आकर्षक ढंग से लिखने की कला को समाचार लेखन कहते हैं। समाचार-लेखन के आवश्यक तथ्य- समाचार लेखन हेतु निम्नलिखित आवश्यक तथ्य है 

1. समाचार लिखने से पूर्व उसकी पृष्ठभूमि का ज्ञान आवश्यक है।

2. समाचार प्राप्त होने के बाद उससे जुड़ी अनेक पक्षों व तथ्यों को समाहित कर लिखना है। यह एक प्रकार का त्रिकोण होता है। 

3. समाचार अनुच्छेद में लिखा होना चाहिए।

4. अनुच्छेद अधिक बड़े या अति लघु नहीं होने चाहिए।

5. एक अनुच्छेद में यथासंभव एक ही विचार या तथ्य दिया जाए।

6. समाचार में शब्दों की पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए।

7. समाचार की भाषा में सामासिकता का गुण होना चाहिए। 

8. शब्दों का निरर्थक प्रयोग नहीं करना चाहिए।


अच्छे समाचार के गुण-एक अच्छे समाचार में निम्नलिखित गुण होने चाहिए- सत्यता—’समाचार’ के छपने से पूर्व और पश्चात में बहुत बड़ा अंतर होता है। छपने से पहले समाचार एक अफवाह होता है, जिसमें विश्वसनीयता नहीं होती, न ही उसके लिए कोई व्यक्ति जिम्मेदार होता है। 

समाचार-पत्र में छपते ही समाचार विश्वसनीय हो जाता है। लोग मुद्रित शब्दों पर पूरा विश्वास करते हैं। उसका जगह-जगह हवाला देते हैं। उस समाचार के लिए समाचार-पत्र के स्वामी या संपादक जिम्मेदार भी होते हैं। अतः समाचार में सच्चाई का होना बहुत जरूरी है ।

सच्चाई का अर्थ है किसी घटना को ज्यों का त्यों लिखना उसमें कोई हेर-फेर या काट-छाँट न करना। न किसी तथ्य को छिपाना और न ही अपनी ओर से बढ़ाना। समाचारों में कल्पना या भावना का कोई स्थान नहीं होना चाहिए।

सत्यता और कठोरता में चोली-दामन का संबंध होता है। परंतु समाचार में यह ध्यान रखा जाना चाहिए कि वह अप्रिय न हो। बिना सत्य को छिपाए उसकी कटुता को यथासंभव कम करना समाचार संपादक का कर्तव्य है ।


स्पष्टता– समाचार स्पष्ट होना चाहिए। उसकी भाषा एकदम साफ होनी चाहिए। वाक्य भी छोटे-छोटे तथा प्रभावी होने चाहिए। स्पष्टता का एक आयाम यह भी है कि पूरे समाचार में एक संगति होनी चाहिए। सभी तथ्य परस्पर पूरक होने चाहिए। 

कोई घटना कब हुई, कहाँ हुई, कैसे हुई, क्यों हुई, उसमें कौन-कौन प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष सम्मिलित हुए- ये सभी तथ्य होने चाहिए। तब पाठक को समाचार पढ़कर संतुष्टि मिलती है। सुरुचि – समाचार सुरुचिपूर्ण होना चाहिए। 

सुरुचि के दो आयाम हैं–

(i) पाठकों के लिए उपयोगी होना 

(ii) प्रस्तुतीकरण की मनोहरता।

कक्षा | Class12th 
अध्याय का नाम | Chapter Nameसमाचार-लेखन
अध्याय प्रकार | Chapter typeहिंदी व्याकरण | Hindi grammar
किताब | Bookहिंदी कोर | HINDI CORE
बोर्ड | Boardसभी बोर्ड | All India Board
किताब | Book एनसीईआरटी | NCERT
विषय | Subjectहिंदी | HINDI


जो समाचार अधिकांश लोगों के लिए उपयोगी होते हैं, वे अधिक आकर्षक और सुरुचिपूर्ण होते हैं। उनका विषय ही पाठकों को आकर्षित करता है। सामान्यतः स्वास्थ्य, शिक्षा, सुरक्षा, फिल्म, नेता-अभिनेता आदि से संबंधित समाचार सबके लिए आकर्षक होते हैं। समाचार प्रस्तुत करने की शैली एक रोचक कथा जैसी होनी चाहिए। समाचार का संयोजन इस प्रकार होना चाहिए कि उसका पहला अनुच्छेद चुंबक की भाँति पाठक को अपनी ओर खींच तथा आगे का विवरण पढ़ने के लिए बाध्य कर दे। यदि किसी समाचार में कोई घटना हुई है तो वह गड्डमड्ड नहीं होनी चाहिए। उसमें सुव्यवस्था होनी चाहिए। 

संक्षिप्तता—समाचार यथासंभव संक्षिप्त होना चाहिए। संक्षिप्तता की विरोधी बातें निम्नलिखित हैं- किसी बात को बार-बार दोहराना। अनावश्यक घटनाएँ या टिप्पणियाँ देना । भाषा में मुहावरों, प्रतीकों या अलंकरण का प्रयोग करना। समाचार की भाषा लक्ष्यबद्ध, सधी हुई, सटीक तथा तथ्यात्मक होनी चाहिए। उनमें एक अर्थ वाले शब्दों का प्रयोग होना चाहिए।


शीर्षक – समाचार के शीर्षक में निम्नलिखित बातें होनी चाहिए-

(i) शीर्षक संक्षिप्त होना चाहिए। एक आदर्श शीर्षक में तीन से पाँच शब्द होने चाहिए।

जैसे-

  • भारत जीता
  • भारत ने इंग्लैंड को रौंदा
  • पटरी से उतरी रेल

जामा मस्जिद में विस्फोट

(ii) शीर्षक देखते ही अपनी ओर खींचने वाला होना चाहिए। 

(iii) शीर्षक सारगर्भित होना चाहिए अर्थात् पूरे समाचार का सारांश उसमें केन्द्रित होना चाहिए। 

कुछ प्रमुख समाचार-लेखन का उदाहरण 


समाचार-लेखन के लिए निम्नलिखित सूचनाएँ दी जा रही हैं। इन्हें आधार बनाकर समाचार-पत्र के लिए एक समाचार तैयार कीजिए


1. सूचनाएँ

विषय- भारत-इंग्लैंड क्रिकेट श्रृंखला का अंतिम मैच ।

परिणाम-भारत की 7 विकेटों से जीत। 

स्थान- इंदीर, महारानी ऊषाराजे स्टेडियम।

मैन ऑफ द मैच- युवराज सिंह

पहली पारी और परिणाम – इंग्लैंड के 8 विकेटों पर 288 रन ।

टॉस जीता- और भारत ने ।

भारतीय पारी सलामी जोड़ी – द्रविड़ (69), रोबिन उथप्पा (86)।

विशेष उपलब्धियाँ-

श्रीसंथ (55 पर 6 विकेट) मैन ऑफ द मैच घोषित ।

‘युवराज सिंह (64 नाबाद) मैन ऑफ द सीरिज घोषित।। 

भारत की रन का पीछा करते हुए लगातार 16वीं जीत एक विश्व रिकार्ड ।

रोबिन उथप्पा एक नए ओपनर ।

‘भारत-इंग्लैंड वनडे क्रिकेट शृंखला में भारत की 5-1 से जीत।

समाचार :

भारत ने क्रिकेट श्रृंखला जीती

राँची। 8 अप्रैल, 2007

यहाँ महारानी राजे स्टेडियम में आज भारत-इंग्लैंड वन-डे क्रिकेटता के अंतिम मैच में भारत ने इंग्लैंड को 7 विकेटों से हराकर यह श्रृंखला 5-1 से अपने नाम कर ली। (आपको ध्यान होगा कि श्रृंखला का पाँचवाँ मैच वर्षा के कारण रद्द हो गया था।) भारत ने टॉस जीतते

हुए पहले क्षेत्ररक्षण करने का फैसला लिया। इंग्लैंड ने शानदार खेल खेलते हुए 8 विकेटों पर 288 रन बनाए। भारत की ओर से श्रीसंघ ने 55 रन देकर इंग्लैंड की 6 विकटें चटकाई।

भारतीय बल्लेबाजी की शुरूआत बहुत ही मजबूत हुई। कप्तान द्रविड़ के साथ पहली बार ओपनर के रूप में आए रोबिन उथप्पा ने 166 रन की साझेदारी की। 86 रनों के स्कोर पर रोबिन थोड़ी सी चूक से रन आउट हो गए। 

कुछ ही देर में द्रविड़ भी 69 रन बनाकर पैवेलियन लौट आए। उनके तुरंत बाद आए युवराज सिंह और रैना ने धुआँधार बल्लेबाजी की। रैना अंतिम ओवर में 55 रन बनाकर रन आउट हुए। युवराज सिंह ने नाबाद रहते हुए 64 रन बनाए और भारत को शानदार विजय दिलवाई।

विरोधी टीम के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत ने लगातार 16वीं बार यह जीत हासिल की। यह एक विश्व रिकॉर्ड है। युवराज सिंह को मैन ऑफ द सीरिज घोषित किया गया।


2. सूचनाएँ :

विषय- सेमेस्टर प्रणाली लागू करना (हरियाणा शिक्षा बोर्ड द्वारा)। 

स्रोत- के. के. खंडेलवाल का कथन।

सेमेस्टर का विभाजन 

1 अप्रैल से 30 सितंबर ( ग्रीष्मकाल सत्र ) 

1 अक्तूबर से 31 मार्च (शरदकालीन सत्र)

1 अप्रैल, 2007 से प्रणाली लागू।

विद्यालयों का समय 

सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक (ग्रीष्मकालीन सत्र ) सुबह 9.00 से दोपहर 3.30 बजे तक (शरदकालीन सत्र)

समाचार :

झारखंड राज्य में सेमेस्टर प्रणाली लागू 

धनबाद। 13 अप्रैल, 2007

झारखण्ड राज्य शिक्षा बोर्ड के निदेशक ने आज विधिवत रूप से झारखंड राज्य में सेमेस्टर प्रणाली लागू करने की घोषणा की। उन्होंने बताया कि यह प्रणाली 1 अप्रैल, 2007 से लागू होगी। 

इसके अंतर्गत दो सत्र होंगे। पहला सत्र 1 अप्रैल से 30 सितंबर तक होगा। इसे ग्रीष्मकालीन सत्र कह सकते हैं। इस दौरान विद्यालय प्रातः 8.00 बजे से दोपहर 2.00 बजे तक खुलेंगे। 

दूसरा शरदकालीन सत्र 1 अक्टूबर से 31 मार्च तक होगा। इस दौरान विद्यालय प्रातः 9.00 बजे से दोपहर 3.30 बजे तक खुलेंगे।


3. सूचनाएँ :

विषय- ईरान में आपाती हमलावरों की फोज। 

स्रोत- द संडे टाइम्स ।

मुखिया- सेंटर फार डाक्ट्रिनल स्टेटिजिक स्टडीज़ का प्रमुख हसन अव्वासी।

वक्तव्य- ब्रिटेन तथा अमरीका के 29 परमाणु-ठिकानों पर हमले की योजना 40,000 आत्मघाती हमलावर प्रशिक्षित ईरान पर हमले की स्थिति में ब्रिटेन तथा अमेरिका पर हमला।

संवाददाता:- कुछ हमलावरों को परेड में भाग लेते देखा गया। गहरे रंग की हरी वर्दी कमर में विस्फोटक बँचा तथा डेटोनेटर ऊपर रखा हुआ।

न्यूयार्क टाइम्स की प्रतिक्रिया – राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद् के पूर्व अधिकारी स्टीवन सिमोन के अनुसार, ईरान पर हमला इराक की तुलना में अधिक घातक ईरान विश्व भर में फैले अपने तंत्र का उपयोग करेगा।

समाचार :

ईरान में 40,000 आत्मघाती हमलावर तैयार

जमशेदपुर। 15 अप्रैल, 2007

द संडे टाइम्स में छपी एक खबर के अनुसार, ईरान में 40,000 आत्मघाती हमलावर प्रशिक्षित किए जा चुके हैं। सेंटर फार डाक्ट्रिनल स्टेटिजिक स्टडीज के प्रमुख हसन अब्बासी ने बताया कि यदि अमरीका और ब्रिटेन ईरान पर हमला करते हैं तो उनके 40,000 आत्मघाती हमलावर ब्रिटेन तथा अमरीका के 29 ठिकानों पर हमला करेंगे। 

वे ब्रिटेन को बिल्कुल नेस्तनाबूद कर देंगे। समाचार एजेंसी ने इन हमलावरों को एक परेड में भाग लेते देखा है। इन्होंने गहरे रंग की हरी वर्दी पहनी हुई थी। इनकी कमर पर विस्फोटक बँधा था तथा ऊपर डेटोनेटर रखे हुए थे। न्यूयार्क टाइम्स ने भी इस बात की पुष्टि की। 

अमरीका की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद् के पूर्व अधिकारी स्टीवन सिमोन ने कहा कि ईरान पर किया गया हमला इराक की तुलना में अधिक घातक होगा। ईरान का सूचना तथा सुरक्षा तंत्र विश्व भर में फैला है। आक्रमण होने की स्थिति में वह इस तंत्र का उपयोग करके अमरीका और ब्रिटेन को काफी नुकसान पहुँचाएगा।


4. सूचनाएँ :

विषय- आमिर खान के पोस्टर जलाए।

कारण :- आमिर खान द्वारा भूख हड़ताल पर बैठी मेघा

पाटकर का समर्थन । 

सामान्य लोग नर्मदा बाँध की ऊँचाई बढ़ाने के पक्षघर। 

इससे चार राज्यों को पानी मिलने की संभावना।

काँग्रेसी नेता और कार्यकर्ता आमिर खान के विरुद्ध भड़के। आमिर के पोस्टर पर जूते लगवाए तथा उन्हें जलाया। भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा आमिर के घर के बाहर धरना तथा विरोध-प्रदर्शन।

आमिर का स्पष्टीकरण – वह नर्मदा बाँध के पक्ष में गरीबों के पुनर्वास की व्यवस्था के लिए विरोध ।

4. समाचार :

आमिर खान के पोस्टर जलाए गए

कोडरमा । 10 अप्रैल, 2007 गुजरात के काँग्रेसी नेताओं तथा कार्यकर्ताओं द्वारा आमिर खान के पोस्टर जलाए गए।

‘ये नेता आमिर खान द्वारा नर्मदा बाँध का विरोध किए जाने पर भड़के हुए थे। नर्मदा-बाँध का मसला गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश की जनता के लिए *नशील मसला है। बाँध के बनने से इन राज्यों की पेयजल समस्या में कमी आएगी। “यहाँ की जनता इस बाँध को

जल्दी-से-जल्दी पूरा होते देखना चाहती है। उधर प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर नर्मदा घाटी के विस्थापितों के पुनर्वास के लिए पिछले 19 दिनों से भूख हड़ताल पर है। 

CLASS 12 NCERT SOLUTION IN ENGLISHCLASS12 NCERT SOLUTION IN HINDI
Historyइतिहास
Geography भूगोल
Political science राजनीति विज्ञान
English SubjectResult
Hindi SubjectHistory answer keys

आमिर खान ने मेंया पाटकर का समर्थन करते हुए कहा कि जब तक गरीब किसानों-मजदूरों का पुनर्वास नहीं होता, नर्मदा बाँध परियोजना को रोक देना चाहिए। इस पर इन राज्यों के प्रमुख राजनीतिक दल भड़क उठे। 

भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भी आमिर के घर के बाहर धरना दिया तथा विरोध-प्रदर्शन किया। आमिर खान ने राजनीतिक दलों के विरोध को उनकी दादागिरी कहा। उन्होंने स्पष्ट किया कि वे नर्मदा बाँध बनाने के पक्ष में है। उनकी चिंता गरीबों के पुनर्वास को लेकर है।


5. सूचनाएँ

विषय— देश में 5.5 करोड़ बच्चे कुपोषण का शिकार। कुपोषण का शिकार हर तीसरा बच्चा भारतीय । 

जानकारी—यूनिसेफ प्रतिनिधि सिलीलियो एडोर्ना के अनुसार कुछ सावधानियों से बचाया जा सकता है। पाँच साल से कम आयु के 6 लाख बच्चों को। 

विद्यमान – केन्द्रीय महिला और बाल विकास मंत्रालय के सचिव ।

कुपोषण का कारण – भोजन की कमी कारण नहीं बल्कि अज्ञान है कारण।

समाचार : देश में 6.5 करोड़ बच्चे कुपोषण के शिकार

धनबाद। 17 जुलाई, 2007 

हमारे देश में 5.5 करोड़ बच्चे कुपोषण का शिकार है। विश्व के कुपोषण के शिकार कुल 14.6 करोड़ बच्चों के एक-तिहाई से भी अधिक बच्चे भारत में रहते हैं।

परंतु नवजात शिशु को आहार को उचित तरीके से देने और चंद सावधानियाँ बरतने से हर साल पाँच वर्ष से कम 6 लाख बच्चों को बचाया जा सकता है। यह बात यूनिसेफ द्वारा किए गए विश्लेषण से सामने आई है। 

संवाददाताओं की इसकी जानकारी यूनिसेफ प्रतिनिधि सिसीलियो एडोर्ना ने दी। इस अवसर पर केन्द्रीय महिला और बाल विकास मंत्रालय की सचिव भी विद्यमान थी। 

इस अवसर पर सिसीलियो एडोर्ना ने कहा कि भारत में आज बच्चों में प्रति वर्ष हो रही 21 लाख मीतों में से आधी मीतों का कारण कुपोषण है। 

उचित स्तनपान तथा समय से पूरक आहार दिए जाने से काफी प्रभाव पड़ेगा। उनका मानना है कि भोजन का अभाव नहीं है लेकिन उचित जानकारी नहीं होने के कारण भी काम में बाधा आ रही है।


7. सूचनाएँ :

विषय— आयोडीन रहित नमक की बिक्री पर देशव्यापी प्रतिबंध । 

प्रवक्ता — केन्द्रीय स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक। जारी अधिसूचना को छः मास बीते।  छः महीने की अवधि मंगलवार आधी रात को समाप्त ।

समाचार : आयोडीन रहित नमक पर आज से पूर्ण प्रतिबंध जमशेदपुर। 

18 जून, 2007 

आयोडीन रहित नमक के सीधे इन्सानी उपयोग से होनेवाली बीमारियों के परिप्रेक्ष्य में

सरकार ने कल बुधवार से देश भर में ऐसे नमक की बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है। केन्द्रीय स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक ने मंगलवार को एक भेंट में बताया कि सरकार ने आयोडीन रहित नमक के सीधे मानवीय उपयोग के लिए इसकी बिक्री पर पाबंदी संबंधी अधिसूचना 17 नवंबर, 2005 को जारी की थी । 

जिसमें इसके उपयोग पर पूर्ण पाबंदी लगाने के लिए छह माह का समय दिया गया था। छह माह की अवधि मंगलवार आधी रात से समाप्त हो रही है। उसके बाद संपूर्ण देश में आयोडीन रहित नमक की बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लग जाएगा।


FAQs

Q. समाचार लेखन के प्रकार क्या है?

समाचार लेखन के प्रकार है- साथ हुआ, कहाँ हुआ, कब हुआ होती हैं। 

Q. समाचार लेखन की शैली क्या है?

समाचार लेखन की शैली उलटा पिरामिड शैली है |


class12.in

Leave a Comment