कक्षा 12वी के महत्वपूर्ण कार्यवृत्त | Class 12th Important Hindi Kaaryavritta

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

क्या आप CBSE & NCERT Class 12th Important Hindi Kaaryavritta का समाधान खोज रहे हैं? ताकि अपने class 12 Hindi के परीक्षा में काफी अच्छे अंक प्राप्त कर सकें | तो यह वेबसाइट आपके लिए है | यहां पर आपको class 12 की तैयारी के लिए अति आवश्यक समाधान उपलब्ध कराया जाता है |

तो छात्रों, इस लेख को पढ़ने के बाद, आपको इस अध्याय से परीक्षा में बहुत अधिक अंक प्राप्त होंगे, क्योंकि इसमें सभी परीक्षाओं से संबंधित प्रश्नों का वर्णन किया गया है, इसलिए इसे पूरा अवश्य पढ़ें।

मैं खुद 12वीं का टॉपर रहा हूं और मुझे पता है कि 12वीं की परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं। वर्तमान में, मैं एक शिक्षक की भूमिका भी निभा रहा हूँ, और अपने छात्रों को कक्षा 12वीं की महत्वपूर्ण जानकारी और विषयों का अभ्यास भी कराता हूँ। मैंने यह लेख 5 वर्षों से अधिक के अपने अनुभव के साथ लिखा है। इस पोस्ट की मदद से आप परीक्षा में इस अध्याय से भूगोल में बहुत अच्छे अंक प्राप्त कर सकेंगे।

कक्षा 12वी के महत्वपूर्ण कार्यवृत्त | Class 12th Important Hindi Kaaryavritta

कक्षा | Class12th 
अध्याय का नाम | Chapter Nameकार्यवृत्त | Kaaryavritta
किताब | Bookहिंदी व्याकरण | HINDI GRAMMAR
बोर्ड | Boardसभी हिंदी बोर्ड
किताब | Book एनसीईआरटी | NCERT
विषय | Subjectहिंदी | HINDI
अध्ययन सामग्री | Study Materialsनिबन्ध | Essays


कार्यवृत्त

Class 12th Important Hindi Kaaryavritta
Class 12th Important Hindi Kaaryavritta

कार्यवृत्त समाज में हर क्षेत्र चाहे वह शिक्षा हो, व्यवसाय हो या अन्य; सभी में समानता होती है । हर संगठन में कुछ सदस्य होते हैं जो अपनी बैठकों में कुछ मुद्दों को उठाते हैं तथा नए कार्य करने के लिए प्रस्तावित पारित करते हैं। इन सभाओं में किए गए कामकाज का रिकार्ड रखा जाता है जिन्हें कार्यवृत्त कहा जाता है। 

दूसरे शब्दों में, ‘कार्यवृत्त वह अभिलेख है जो किसी सभा में किया जाता है ।’ हर संगठन के लिए कार्यवृत्तों को रखना अनिवार्य है । 

कार्यवृत्त लिखते समय ध्यान देने योग्य बातें:

“किसी भी सभा की कार्यवाही को लिखने के लिये निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना आवश्यक है-

1. कार्यवृत्त पुस्तकों के पेजों पर संख्या अंकित होनी चाहिए । 

2. सभा के 30 दिनों के अंदर कार्यवृत्त लिखने चाहिए।

3. कार्यवृत्त पुस्तकों में पत्रों को चिपकाना या नत्थी नहीं करना चाहिए। 4. कार्यवृत्त पुस्तक के हर पेज पर आद्य हस्ताक्षर होने चाहिए।

5. कार्यवृत्त पुस्तकों में हर सभा की कार्यवाहियों के रिकार्ड के अंतिम पृष्ठ पर तारीख तथा तत्कालीन अध्यक्ष के हस्ताक्षर होने चाहिए।

6. किसी भी सभा में पदाधिकारियों की सभी नियुक्तियों को सभी के कार्यवृत्त में शामिल करना अनिवार्य है। 

7. असंगत, अनावश्यक तथा संगठन के लिए अहितकारी सामग्री निकाली जा सकती है, परंतु उसके लिए अध्यक्ष की अनुमति आवश्यक है ।

8. कार्यवृत्त पुस्तिका संगठन के मुख्यालय पर ही रखी जानी चाहिए।

कार्यवृत्त के प्रकार : कार्यवृत्त सामान्यतया दो प्रकार के होते हैं-

1. कथनों के कार्य एवं 

2. संकल्पों के कार्यवृत्त । 

1. कथनों के कार्यवृत्तये उन घटनाओं या मदों के अभिलेख है जिनको स्थापित करने के लिये औपचारिक संकल्प की आवश्यकता नहीं होती। इनमें सामान्यताः निम्नलिखित कार्यवृत्त शामिल हैं-

(i) सभा में उपस्थित लोगों के नाम

(ii) पिछली सभा के कार्यवृत्तों पर हस्ताक्षर 

(iii) अनुपस्थिति की छूट का रिकार्ड 

(iv) पत्राचार, सारणीयन आदि का रिकार्ड वैकल्पिक रूप में प्रस्तावक का नाम तथा समर्थक का नाम भी हो सकता है। 

(v) वित्तीय कपन, रिपोर्ट, योजनाओं आदि को नोट करना । 

2. संकायों के कार्यवृत्त – संकल्प साधारण रूप से पारित प्रस्ताव भी हो सकता है या – स्पष्टीकरण वक्तव्य की ड्राफ्टिंग के लिये भी जिम्मेदार होता है। संकल्प दो प्रकार के होते हैं– का सचिव सभाओं को बुलाने के लिये जिम्मेदार होता है। 

सचिव ही संकल्प तथा 1 सामान्य संकल्प तथा विशेष संकल्प।

(i) सामान्य संकल्प वाले मामले– इसमें निम्नलिखित मामले शामिल होते हैं

1. संगठन के नाम को ठीक करना 

2. वार्षिक लेखे को मान्यता

3. संगठन के अधिकारियों की नियुक्ति या हटाया जाना

4. रिक्त स्थान की पूर्ति ।

(ii) विशेष संकल्प वाले मामले—इसमें निम्नलिखित मामले शामिल होते हैं-

1. संगठन के पंजीकृत कार्यालय को दूसरे राज्य में बदलना 

2. संगठन के संविधान को बदलना

3. नया काम शुरू करना

4. रजिस्टरों को पंजीकृत कार्यालय के अतिरिक्त अन्य स्थान पर रखना

5. संगठन को समाप्त करना।

किसी भी बैठक की समाप्ति के बाद समिति का सचिव या संयोजक कार्रवाई के कार्यवृत्त का प्रारूप तैयार करता है। कार्यवृत्त की प्रकृति बैठक की प्रकृति के अनुरूप होती है। -बैठक में जो प्रस्ताव और निर्णय लिए जाते हैं, उन सभी का विवरण कार्यवृत्त में दिया जाता है।

—कार्यवृत्त तैयार होने के बाद सचिव या संयोजक उस पर अध्यक्ष के हस्ताक्षर करवाता है इस कार्यवृत्त की अगली बैठक में संपुष्टि के लिए प्रस्तुत किया जाता है।

-यदि अगली बैठक होने की संभावना न हो तो उसकी एक-एक प्रति समिति के सदस्यों को भेजी जाती है।


कार्यवृत्त के नमूने


1. विद्यालय प्रबंधन समिति की बैठक का कार्यवृत्त ।

डी.ए.वी. विद्यालय की प्रबंधन समिति की आवश्यक बैठक श्री चन्द्र प्रकाश (चेयरमैन ) की अध्यक्षता में दिनांक 25 मार्च, 200… को संपन्न हुई। इसका कार्यवृत्त इस प्रकार है : 

आज दिनांक 25 मार्च, 200…. को विद्यालय की प्रबंधन समिति की बैठक चेयरमैन,

श्री चन्द्र प्रकाश की अध्यक्षता में संपन्न हुई। इसमें निम्नलिखित सदस्य उपस्थित थे- 

1. श्री चन्द्र प्रकाश ( चेयरमैन)

2. श्री अशोक सहाय (उपाध्यक्ष) 

3. श्री मेवालाल (सचिव)

4. श्रीमती आशा लता (प्रधानाचार्या) 

5. श्री ओम प्रकाश (सदस्य)

6. श्री रामानन्द यादव (सदस्य) 

7. श्री विजय कुमार (सदस्य)

बैठक प्रारम्भ होने से पूर्व सचिव ने सभी सदस्यों का स्वागत किया। इसके पश्चात् पिछली बैठक 2 जनवरी, 200…. का कार्यवृत्त किया।

इसके पश्चात् सचिव महोदय ने अगले शैक्षणिक सत्र हेतु मासिक फीस में नियमानुसार पाँच प्रतिशत बढ़ोत्तरी का प्रस्ताव किया। विद्यालय के बढ़ते हुए खर्ची को देखते हुए इस बढ़ोत्तरी

को उचित बताया गया। इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से स्वीकार कर लिया गया। आर्थिक रूप से पिछड़े विद्यार्थियों के लिए 20 प्रतिशत छात्रों को निःशुल्क शिक्षा प्रदान करने के राजकीय निर्देश का समुचित पालन करने का निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया, जिससे विद्यालय समाज के प्रति अपने उत्तरदायित्व का पालन कर सके और कानूनी पचड़ों से बच सके। अंत में, अध्यक्ष में सभी सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त किया। जलपान के पश्चात् बैठक समाप्त हुई। 

हस्ताक्षर

———-

अध्यक्ष

हस्ताक्षर

————

सचिव ()

class 12th NotesMCQ
HistoryPolitical Science
EnglishHindi

2. रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन की कार्यकारिणी की बैठक का कार्यवृत्त । 

आज दिनांक 5 अगस्त, 200…. को ‘अशोक रेजीडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन, हजारीबाग’ की कार्यकारिणी की बैठक अपराह्न 4 बजे सामुदायिक भवन में आयोजित की गई। इसमे निम्नलिखित सदस्यों ने भाग लिया

1. अध्यक्ष, अपाध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष तथा 5 सदस्यों के चुनाव हेतु नामांकन पत्र जमा करने की तिथि:- 8 अगस्त, 200……

2. नाम वापस लेने की अंतिम तिथि – अगस्त, 200……

3. चुनाव की तिथि एवं समय (यदि आवश्यक हो)- 18 अगस्त प्रात 10.00 बजे

4. चुनाव परिणाम की घोषण:- 12 बजे के मध्य 20 अगस्त, 20….. को 12. 30 बजे

5. चुनाव अधिकारी श्री अजय कुमार मोदी 

यह भी तय किया गया कि चुनाव से पूर्व सभी निवासियों को गत वर्ष की आय-व्यय का विवरण लिखित रूप में भिजवा दिया जाए तथा उनसे सुझाव आमंत्रित किए जाएँ। नए पदाधिकारियों को उसी दिन सायं 5 बजे तक चार्ज सौंप दिया जाए। सायंकाल 5 बजे नई कार्यकारिणी की बैठक आहूत की जाए।

वर्तमान कार्यकारिणी के सदस्यों के आभार प्रदर्शन के साथ बैठक संपन्न हुई।

हस्ताक्षर ( )

अध्यक्ष

हस्ताक्षर ( )

सचिव

3. विद्यालय की सांस्कृतिक समिति की बैठक 3 सितम्बर, 200…… को संपन्न हुई थी। उसमें जिन विषयों पर चर्चा हुई और जो निर्णय लिए गए, उनके कार्यवृत्त का नमूना- केंद्रीय विद्यालय, रातू रोड, राँची की सांस्कृतिक समिति की बैठक का कार्यवृत्त 

विद्यालय की सांस्कृतिक समिति की आवश्यक बैठक 3 सितंबर, 200….. को संपन्न हुई ।

इसमें निम्नलिखित सदस्यों ने भाग लिया :

1. श्री विजय सिंह (अध्यक्ष)

2. श्री आर. के. मुंडा (सदस्य )

3. श्री चन्दन महतो (विद्यालय प्रबंधक ) 

4. श्रीमती खुशबू रानी (प्रधानाचार्या)

5. श्री संजय कुमार मुर्मू (सांस्कृतिक कार्यक्रम संयोजक)

6. श्रीमती नीलम हांसदा (सचिव)अलका पासपोर्ट

इसके पश्चात् 12 अगस्त, 20…. को संपन्न हुई पिछली बैठक का कार्यवृत्त प्रस्तुत कि गया। सदस्यों ने सर्वसम्मति से इस कार्यवृत्त की संपुष्टि की। 

इसके बाद सचिव सहोदय ने बताया कि अगले मास विद्यालय का वार्षिक दिवस कार्यक्रम आयोजित होना है। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति होनी है। काफी चर्चा है बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम एंव वार्षिक दिवस समारोह के लिए 10 दिसम्बर, 200 की तिथि निर्धारित की गई। 

सांस्कृतिक कार्यक्रम की रूपरेखा पर चर्चा करते हुए सदस्यों ने निम्नलिखित कार्यक्रमो आयोजन करने के सुझाव दिए :

1. सरस्वती वंदना | 

2. वार्षिक रिपोर्ट की प्रस्तुति ।

3. मुख्य अतिथि का स्वागत सम्मान ।

4. समूह गान ।

5. नाटक।

6. फैंसी ड्रेस शो। 

7. एकलगान।

8. भाषण।

9. अध्यक्षीय भाषण ।

कार्यक्रम संचालन पर होने वाले व्यय के बारे में प्रधानाचार्या ने बताया कि बजट में 25 हजार रुपयों का प्रावधान कर दिया गया है। इससे अधिक व्यय होने की स्थिति में ‘अभिभावक-शिक्षक संघ’ ने पाँच हजार रुपये तक देने का प्रस्ताव किया है। इस कार्यक्रम में

स्कूल के ही अधिकाधिक विद्यार्थियों को शामिल करने का सुझाव दिया गया। मुख्य अतिथि के रूप में किसी राजनेता को न बुलाकर किसी प्रख्यात समाजसेवी अथवा साहित्यकार को आमंत्रित करने का सुझाव अधिकांश सदस्यों ने दिया। इसे सर्वसम्मति से स्वीकार

कर लिया गया।

अंत में, अध्यक्ष महोदय ने सभी सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त किया।

हस्ताक्षर

(———- ) 

चेयरमैन

हस्ताक्षर 

(—–) 

सचिव



class12.in

FAQs


प्रश्न 1. ऊपर दिए गए कार्यवृत्त पत्र 12th परीक्षा के लिए काफी हैं?

उत्तर- हां, ऊपर दिए गए कार्यवृत्त पत्र आपके 12th परीक्षा के लिए काफी हैं | इनमें से कई कार्यवृत्त पत्र पीछे कुछ सालों में पूछे जा चुके हैं | तो इनका अवश्य अनुसरण करें |

प्रश्न 2. ‘ऊपर दिए गए कार्यवृत्त पत्र पिछले कई 12th परीक्षा में आ चुके हैं या नहीं?

उत्तर- ऊपर दिए गए कार्यवृत्त पत्र कक्षा बारहवीं के विषय HINDI के लिए काफी महत्वपूर्ण है और ये काफी बार पूछे जा चुके हैं |

Leave a Comment