Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers PDF Download 2019

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

क्या आप Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers (2019) PDF Download में प्रश्न उत्तर की तलाश कर रहे हैं तो यह वेबसाइट आपके लिए हैं |

तो छात्रों, इस लेख को पढ़ने के बाद, आपको इस अध्याय से परीक्षा में बहुत अधिक अंक प्राप्त होंगे, क्योंकि इसमें सभी परीक्षाओं से संबंधित प्रश्नों का वर्णन किया गया है, इसलिए इसे पूरा अवश्य पढ़ें।

मैं खुद 12वीं का टॉपर रहा हूं और मुझे पता है कि 12वीं की परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं। वर्तमान में, मैं एक शिक्षक की भूमिका भी निभा रहा हूँ, और अपने छात्रों को कक्षा 12वीं की महत्वपूर्ण जानकारी और विषयों का अभ्यास भी कराता हूँ। मैंने यह लेख 5 वर्षों से अधिक के अपने अनुभव के साथ लिखा है। इस पोस्ट की मदद से आप परीक्षा में इस अध्याय से भूगोल में बहुत अच्छे अंक प्राप्त कर सकेंगे।

Class 12 Geography Suggestion PDF Download Direct Link

EXAM NAMEJAC BOARD
SUBJECTGeography
Paper Year2019
BOARDJAC BOARD
Available Previous Years Papers
PROVIDINGPrevious Years Papers PDF
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers PDF Download
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers PDF Download

Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers PDF Download

Previous Years PapersLinks
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers 2020PDF Download
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers 2019PDF Download
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers 2018PDF Download
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers 2017PDF Download
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers 2016PDF Download
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers 2015PDF Download
Jac Board Class 12th Geography Previous Years Papers 2014PDF Download

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न (Long Answer Type Question) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से दीजिए-

Q. विश्व के लोहा इस्पात उद्योग अथवा सूती वस्त्र उद्योग का संक्षिप्त गया है। वर्णन कीजिए। 

Ans. लोढ़ा तथा इस्पात उद्योग (Iron and Steel Industry)- इस्पात के उत्पादन को किसी देश के विकास का संकेतक माना जाता है।

लोहा-इस्पात के उत्पादन की मात्रा और गुणवत्ता किसी भी देश के औद्योगिक विकास को प्रभावित करती है। एक अनुगमन के अनुसार 65%, मशीनी उपकरण, बिजली के उपकरण, परिवहन की मशीनें और बर्तन पूरी तरह से इस्पात से बनते हैं। 

अल्यूमिनियम के उत्पादन से पहले 10 में से 9 वस्तुएं लोहे से बनती थीं। लोहा-इस्पात न केवल सभ्यता अपितु अन्य उद्योगों का भी आधार है। लोहा-इस्पात उद्योग किसी भी देश की अर्थव्यवस्था का मेरुदंड और मापदंड है। यदि इस्पात न होता तो संसार बैलगाड़ी के युग में जी कैसे बनता है लोहा-इस्पात रहा होता।

लौह अयस्क और चूने के पत्थर का चूर्ण तथा कोक (कोयले का रूप) को मन भट्टी में डालकर पिलाया जाता है। यमन भट्टी में अशुद्धियां ऊपर आ जाती है, जिन्हें निकाल दिया जाता है। पिघले लोहे को इस्पात बनाने वाली भट्टी में ले जाया जाता है। इसे बेसिक ऑक्सीजन भट्टी कहते हैं। 

इसमें कोमियम मैगनीज आदि मि दिए जाते हैं। इसके बाद इसे पिघती अवस्था में ही रोलिंग मिलों में ले जाया जाता है, जहां इसे चादरों, छड़ों, रेल की पटरियों, पाइपों और तारों का रूप दिया जाता है। संसार में लोहा-इस्पात उद्योग का वितरण- चीन चीन लोहा इस्पात का अग्रणी उत्पादक है। इसके लिया ओनिंग क्षेत्र घाटी का शंघाई नगर प्रमुख उत्पादक हैं।

नागोया, ओसाका, वाकायामा, ओकायामा आदि नगरों में केन्द्रित है। सं. रा. अमेरिका- इसमें यह उद्योग महान झीलों के क्षेत्र (दुष शिकागों, गारी, ईरी, क्लीवलैंड, सोरेन, बफैलो, डेट्रायट) तथा अटलांटिक तटीय प्रदेश (स्पैरो पाइंट, मौरिसविली) में अवस्थित है।

यू. के. पू. के. में यह उद्योग जब तदीय नगरों में केन्द्रित हो रहा है। वेल्स में स्वान्सी की खाड़ी पर तालबट पत्तन इस उद्योग का बहुत बड़ा केन्द्र है। सीरिया और आस्ट्रेलिया का स्थान है। इसके अलावा तट पर ही स्थिति स्कनयोर्प, और रेडकार में भी इसके केन्द्र है।

पश्चिमी यूरोप फ्रांस, बेल्जियम और जर्मनी में लोहे इस्पात के कारखाने रूस- रूस के सेंट पीटर्सबर्ग, लिपेटस्क और तुला में मह उद्योग केन्द्रिक सूती वस्त्र उद्योग के पुराने देश इस उद्योग विकास पू. के. जपान, यूक्रेन में शिपी रोड (किरपोई रोग) और डोनेटस्क तोडा इस्पात उद्योग का जर्मनी में यह उद्योग बहुत फूला-फूला। द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद तक यह उद्योग प्रमुख केन्द्र है।

जर्मनी में निरंतर प्रगति करता रहा। लेकिन 1970 के बाद इस उद्योग का बस होने भारत के छोटा नागपुर के पठार पर जमशेदपुर, दुर्गापुर, बोकारो, लगा। यह उद्योग अब अल्पविकसित देशों में स्थानानतरित हो गया है।

राउरकेला मिलाई आदि नगर इस उद्योग के केन्द्र हैं। लोहा-इस्पात उत्पादन की वर्तमान प्रवृत्तियां (Present Trends in the production of Iron and Steel)- (1) संसार में इस्पात का उत्पादन निरंतर बढ़ रहा है। 1973 में संसार का कुल उत्पादन 69.77 करोड़ टन था, जो बढ़कर 2007 में लगभग 134 करोड़ टन हो गया। (0) संसार के 70% से अधिक लोहे और इस्पात का उत्पादन 10 देशों चीन, जापान, सं. रा. अमेरिका, रूपस, कोरिया गणतंत्र (दक्षिणी), भारत, ब्राजील, यूकेन, जर्मनी और इटली में होता है। 

class 12th NotesMCQ
HistoryPolitical Science
EnglishHindi

Q.भारत में जल प्रदूषण की प्रकृति का वर्णन कीजिए। Describe the nature of water pollution in India. 

Ans. जनसंख्या वृद्धि तथा औद्योगीकरण के साथ जल की माँग भी बड़ी है जिसके कारण जल की गुणवत्ता काफी घट गई है। जल की गुणवत्ता के इस के मुख्य कारण निम्नांकित है-

सूती वस्त्र निर्माता वर्तमान देश सूती वस्त्र निर्माण के क्षेत्र में अल्पविकसित देश अग्राणी बन गए हैं। इन देशों में श्रमिकों के वेतन कम है।  

प्राकृतिक स्रोत- इसके अन्तर्गत अपरदन भूस्खलन, पेड़-पौधे और जीवन-जन्तुओं के सड़ने से भी जल प्रदूषित होता है। मानव स्रोत- मानव स्रोत से अधिक जल प्रदूषण होता है जो एक गम्भीर चिंता का विषय है।

औद्योगिक स्रोत उद्योगों के अवांछनीय उत्पाद जैसे औद्योगिक अपशिष्ट जल, विषैली गैस आदि प्रवाहित जल में बहा दिये जाते हैं जिससे जल प्रदूषित हो जाता है। ऐसे उद्योग है चमड़ा उद्योग, कागज उद्योग और रसायन उद्योग नगरीय स्रोत- जल-मल और घरेलू उपयोग में आया जल तथा नगरपालिका का कचरा आदि। नगरीय अपशिष्टों से नदियों का जल अधिक प्रदूषित होता है।

कानपुर के चमड़े के कारखानों से प्रतिदिन 58 लाख लीटर अपशिष्ट जल बहता है जो गंगा को गटर बना रहा है। दिल्ली के निकट यमुना में 17 खुले गंदे नाले मल जल डालते हैं। गंगा नदी के किनारे महानगरों से प्रतिदिन गंदा जल डालने वाले दि नाले गंगा को अपवित्र करते हैं। कृषीय स्रोतों में अवैज, उर्वरक, कीटनाशक आदि जल में बहकर नदियों के जल को प्रदूशित करते हैं। इसके अतिरिक्त अन्य धार्मिक-सांस्कृतिक स्रोत जैसे तीर्थयात्राओं, धार्मिक प्र मेलो, पर्यटन आदि के कारण भी जल प्रदूषित होता है। 

Q.पनामा नहर ने अन्तराष्ट्रीय व्यापार को बढ़ाने में किस प्रकार योगदान दिया है? स्पष्ट कीजिए। Explain how Panama Canal has helped in increasing the international trade.

Ans. पनामा नहर मानव निर्मित एक जलमार्ग अथवा जलयान नहर है जो पनामा में स्थित है। यह प्रशांत महासागर तथा (कैरेबियन सागर होकर) अटलांटिक महासागर को जोड़ती है। इस नहर की कुल लम्बाई 77.1 कि.मी है। यह अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के प्रमुखतम जलमार्गों में से एक है। अमेरिका के पूर्वी और पश्चिमी तटों के बीच की दूरी इस नहर से होकर गुजरने पर तकरीबन 8000 मील (12,875 कि. मी) घट जाती है क्योंकि इसके न होने की स्थिति में जलपातों को दक्षिण अमेरिका के हॉइन अंतरीप से होकर चक्कर लगाते हुए जाना पड़ता था।

 जब यह नह बनी थी तब इससे लगभग 1000 जलपोत प्रतिवर्ष गुजरते थे और अब सौ वर्षों बाद इनकी संख्या लगभग 42 जलपोत प्रतिदिन हो चुकी हैं। वर्तमान समय में दुनिया भर में व्यापार के लिए चलने वाले 5 प्रतिशत पानी के जहाज पनामा से होकर गुजरते हैं। पनामा नहर के द्वारा होने वाले अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार में भागीदारी-

  • 1. निर्यात भागीदार संयुक्त राज्य 42% पीपुल्स गणतंत्र की चीन और ताइवान 5.3%, कोस्टा रिका 7.3%, स्वीडन 5.4%, नीदरलैंड 6.5%, स्पेन 6.
  • 2%1 2. शीर्ष आयात भागीदार संयुक्त राज्य 29%, कोस्टा रिका 5.2%, मेक्सिको 4.5% चीन 4.2%, जापान 3.6% 1
  • स्पष्ट है कि पनामा नहर अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को बढ़ाने में बहुत बड़ा योगदान दे रहा है।

इस आर्टिकल में किसी भी प्रकार का त्रुटि आपको मिलती है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं हम उसे जल्द से जल्द ठीक करने की कोशिश करेंगे क्योंकि लिखने समय सबसे गलती हो जाती है 😅😅😅😅😅😅😅😅😅

  • अध्याय 1 जनसंख्या: वितरण, घनत्व, वृद्धि और संघटन
  • अध्याय 2 प्रवासन: प्रकार, कारण और परिणाम
  • अध्याय 3 मानव विकास
  • अध्याय 4 मानव बस्तियाँ
  • अध्याय 5 भूमि संसाधन और कृषि
  • अध्याय 6 जल संसाधन
  • अध्याय 7 खनिज और ऊर्जा संसाधन
  • अध्याय 8 विनिर्माण उद्योग
  • अध्याय 9 योजना और भारतीय संदर्भ में सतत विकास
  • अध्याय 10 परिवहन और संचार
  • अध्याय 11 अंतर्राष्ट्रीय व्यापार
  • अध्याय 12 चयनित मुद्दों और समस्याओं पर भौगोलिक परिप्रेक्ष्य
  • अध्याय 1 डेटा – इसका स्रोत और संकलन
  • अध्याय 2 डाटा प्रोसेसिंग
  • अध्याय 3 डेटा का चित्रमय प्रतिनिधित्व
  • अध्याय 4 डाटा प्रोसेसिंग और मैपिंग में कंप्यूटर का उपयोग
  • अध्याय 5 फील्ड सर्वेक्षण
  • अध्याय 6 स्थानिक सूचना प्रौद्योगिकी

class12.in

FAQs

Q. कक्षा 12 भूगोल मॉडल पेपर कहां से डाउनलोड करें?

CLASS 12TH मॉडल पेपर आप यहां से प्राप्त कर सकते हैं|

Q. उत्तर के साथ कक्षा 12 भूगोल प्रश्न पत्र कहां से डाउनलोड करें?

कक्षा बारहवीं के विषय भूगोल का सभी अध्यायों का नोट चाहिए तो आप क्लास class12.in पर जा सकते हैं|

Leave a Comment